गर्भावस्था में सौंठ के लड्डू खाने के ये हैं फायदे

#drygingerladoo प्रेगनेंसी है तो नसीहतें भी एक से बढ़कर एक हैं। क्या खाएं, क्या छोड़ें। वैसे  बच्चे के जन्म के बाद भारतीय परिवारों में,  न्यू मदर (new mother) की सेहत को ध्यान में रखते हुए विभिन्न प्रकार के व्यंजन स्पेशल रेसिपीज़ से बनाए जाते हैं। उन्हीं रेसिपीज़ में से सोंठ के लड्डू शामिल हैं। ये लड्डू जितने पौष्टिक हैं खाने में उतने ही स्वादिष्ट भी होते हैं यानी टेस्टी भी यमी भी।  गरम तासीर का होने के कारण शुरू के तीन महीने, खासतौर पर नई मां को ये लड्डू खिलाये जाते हैं। इन्हें खाने से ब्रेस्ट मिल्क प्रोडक्शन बढ़ता है। माताओं को एनर्जी मिलती है।

प्रसव के बाद सौंठ के लड्डू और खसखस हलवा  के फायदे ( Dry ginger powder laddu benefits after delievery)

1-ये कमर दर्द में आराम देने के साथ ही नई मां को शारीरिक रूप से ताकत भी देते हैं ।

2- वात दोष दूर करते हैं।

3-प्रसव के बाद स्तन में दूध का उत्पादन बढ़ाने और कमजोरी को दूर करने में बहुत फायदेमंद साबित होते हैं।

4- इसमें जो आयरन, कैल्शियम, बी-ग्रुप विटामिन और मिनरल्स होने के साथ-साथ उच्च मात्रा में यानि 200-300 तक कैलोरी होता है वह प्रसूता माता के लिए लाभदायक ही होता है।

5- ये नई मां के अंदरूनी जख़्म को जल्दी ठीक करने और एनर्जी को वापस लाने में मदद करते हैं।

6-लेकिन इनका सबसे अच्छा काम मां के दूध के उत्पादन को बढ़ाना है। जो नवजात शिशु के लिए अमृत स्वरूप होता है। इन्हें बनाना आसान है।

सौंठ के लड्डू बनाने की विधि

सामग्री….

सोंठ- 1  चम्मच

बादाम पाउडर -2 बड़े चम्मच

नारियल का पाउडर -1 बड़ा चम्मच

गोंद -4 चम्मच

घी- 3 चम्मच

इलायची पाउडर- एक चम्मच

गुड़ -2 बड़े चम्मच

आटा -एक कप

सूखे मेवे (काजू, चिरौंजी, किशमिश, पिस्ता, कटे हुए) 1 कप

विधि

गोंद भून कर ठंडा होने के बाद दरदरा पीस लें।

कड़ाही में घी डालकर धीमी आंच में आटा भूनें।

फिर गुड़ पिघलाएं ।

आंच बंद करके इसमें आटा, गोंद, सोंठ, नारियल पाउडर, बादाम पाउडर, सूखे मेवे, इलायची पाउडर और बचा घी डालकर अच्छी तरह मिलाकर लड्डू बांध लें।

रोज़ सुबह दूध के साथ जच्चा खाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here