Multitasking बनें लेकिन निजी और प्रोफेशनल लाइफ को रखें बैलेंस

working-women
working-women

Multitasking बनें लेकिन कामकाज में बैलेंस होना बहुत ज़रूरी है। काम का मतलब आॅफिस ही नहीं है, और भी बहुत सारे कामकाज होते हैं। कहने का अर्थ है कि केवल ऑफिस के काम को ही काम न समझें, बाकी ज़िम्मेदारियों का निर्वहन भी आपके काम का ही हिस्सा है। हम सभी हरदम किसी न किसी काम में व्यस्त रहते हैं।

या यूं कहें कि हर रिश्ते में ड्यूटी और काम समाहित है। फिर चाहे मां-बाप हो या बच्चा, भाई-बहन, कर्मचारी, केयरटेकर या कोई भी। कई लोग तो एक साथ कई कामों का निर्वहन करते हैं। ऐसे में ज़रूरी है कि काम के हर पक्ष में आप अव्वल हों। कोई भी कोना छूटे नहीं। जो भी कोना छूटेगा, वहीं दरार आ जाएगी। यदि समय रहते ही इसे नहीं पाटा गया तो दरकने में देर नहीं लगती।

प्राथमिकताओं को तय करें- Set priorities

couple working
couple working

आप सिर्फ एक प्रकार का काम करते हैं या एक साथ कई काम करते हैं तो प्राथमिकताओं की सूची तैयार करें। ऐसा करने से कोई भी काम छूटेगा नहीं। इससे आप अपने बाॅस, लाइफ पार्टनर, आस-पड़ोस, आॅनलाइन फ्रेंड्स को खुश कर पाएंगे। याद रहे बिना प्राथमिकताओं के सिर्फ एक बार में एक ही काम किया जा सकता है और लंबे समय तक ऐसा करने से काम के स्तर में गिरावट आती है। चाहे यह काम पेरेंटिंग का ही क्यों न हो।

Multitasking बनें , ब्रेक भी ज़रूरी – Break required

working couple

काम पर्सनल हो या प्रोफेशनल, दोनों में ब्रेक लेना नितांत आवश्यक है। यदि दोनों में डूबे रहें तो नीरसता पसर जाएगी। साथ ही दोनों में सामंजस्य टूट जाएगा। यदि आप घर से आॅफिस का काम करते हैं तो इसका समय तय करें। अन्यथा दिनभर काम में डूबे रहेंगे। पैसा कमाने के चक्कर में सब कुछ बिखर जाएगा। आॅफिस जाते हैं तो सप्ताह में एक दिन की ब्रेक ज़रूर लें।

Multitasking बनें , लचीलापन रखें- Have flexibility

work list

लचीलापन पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में मुमकिन है। आपकी आॅफिशियल ग्रोथ से बाॅस खुश है तो उनसे पंद्रह से बीस मिनट रोज़ाना जल्दी जाने की छूट मांगें। यकीन मानिए इस छोटे से लचीलेपन से आप पर्सनल लाइफ को ज्यादा समय दे पाएंगे। इससे अपनों को बेहिसाब खुशी मिलेगी।

अपनों से मांगें वक्त – Ask for time with your loved ones

working
working

आपका हर काम बेहतरीन हो। इसके लिए समय निर्धारण और प्राथमिकताओं काे तय करना नितांत आवश्यक है। साथ ही अपनों को समझाएं कि उन्हें बेहिसाब कामों में उलझाए नहीं। उनसे बाॅस की तरह छूट मांगें ताकि सब खुश रहें और किसी प्रकार के दबाव में नहीं आएं। भले ही छूट जल्दी सोने की हो।

यह भी पढ़ें : https://www.indiamoods.com/digital-relationships-give-time-to-your-loved-ones-dont-lose-time/

एक समय में एक ही काम – One job at a time

आप हर काम में अव्वल आना चाहते हैं, ताकि पर्सनल व प्रोफेशनल लाइफ में सुपर हिट रहें। इसके लिए एकाग्रता बहुत जरूरी है। यह तभी मुमकिन है जब एक काम करते समय दूसरी ओर ध्यान नहीं जाए। काम और जिंदगी में सामंजस्य बनाने के लिए सीमा रेखा तय करें। एक समय में आप मल्टीटास्किंग नहीं कर सकते। सो जो काम कर रहे हैं, उसमें एकाग्रता लाएं। मसलन प्रोफेशनल में पर्सनल और पर्सनल में प्रोफेशनल की घुसपैठ न हो।

Multitasking बनें, ना भी कहें- Say no

smart working

याद रहे कि आप सुपरमैन नहीं हैं कि हर काम चुटकी में कर लेंगे। यदि आपको लगता है कि फ्लां प्रोजेक्ट आपकी सीमा से बाहर है, तो मना कर दें। नकारने का अंदाज़ तारीफ भरा हो ताकि सामने वाले को बुरा नहीं लगे। अच्छा बनने के चक्कर में बाॅस से हर नए प्रोजेक्ट के लिए हामी नहीं भरें। अन्यथा बोझिल हो जाएगी आपकी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ।

ज़रूरी है तय सीमा- Required limit

कोई काम पूर्ण तब होता जब उसकी तय सीमा निर्धारित हो। काम को डेडलाइन तक अमलीजामा पहना दें। इसमें कोई कमी-पेशी नहीं हो, इसके लिए एकाग्रता के साथ काम करें।

कुछ और अहम बातें

  • अपना काम अपनी तरफ से बेहतरीन करें। याद रहे गलतियों से ही इनसान सीखता है। काम का विखंडन कैसे-कैसे करना है, यह जल्दी तय करें।
  • काम की प्राथमिकता ज़रूरत के हिसाब से तय करें। काम के दौरान डिजिटल डीटाॅक्स वाला व्रत रखें।
  • अन्यथा काम पर असर पड़ेगा। हां, काम से बीच-बीच में ब्रेक के समय डिजिटल मीडिया में तांकझांक करें
  • पर्सनल बातें ब्रेक में करें
  • कम से कम 90 मिनट लगातार काम करने के बाद ब्रेक ज़रूर लें
  • काम के समय फोन साइलेंट मोड में रखें,
  • सोशल मीडिया में पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ अलग-अलग हो।