आयुर्वेदिक तरीके से करें हाइपरटेंशन का उपचार

ayurvedic-herbal-guide

हाइपरटेंशन का उपचार आयुर्वेदिक तरीके से किया जाये तो यह काफी कारगर साबित हो सकता है। यदि आप चाहें तो अपने मन और दिमाग को शांत रखकर इस बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं। आइए जानते हैं कि आखिर कैसे आप आयुर्वेद के जरिए इस बीमारी से दूर रह सकते हैं।

मन को शांत रखें

Hypertension

योग और अधत्यात्म के जरिए आप हाइपरटेंशन से होने वाली बीमारियों से खुद को सुरक्षित रख सकते हैं. इसके लिए आपको नियमित रूप से प्रतिदिन योग और अध्यात्म करना होगा. इस ट्रिक से आप अपने मन की समस्याओं को सुलझा सकते हैं. इसे आयुर्वेदिक साइकोथेरेपी भी कह सकते हैं. इसमें प्राणायाम, ध्यान, शवासन योग निद्रा, शशांकासन, पद्मासन, पवन मुक्तासन, कूर्मासन, मकरासन जैसे कई आसन हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारी में बहुत उपयोगी होते हैं.

नियमित रूप से करें व्यायाम

hiper

व्यायाम के जरिए भी हाइपरटेंशन से होने वाली बीमारियों पर लगाम कसी जा सकती है. इसके जरिए आप रोजाना जिम या पार्क जाकर भी रेगुलर एक्सरसाइज कर सकते हैं. एक्सरसाइज किसी ट्रेनर की देख-रेख में की जाए तो ज्यादा बेहतर होगा. अक्सर गलत एक्सरसाइज करने की वजह दूसरी परेशानियों को दावत दे बैठते हैं.

खानपान में सुधार

हाइपरटेंशन से पीड़ियों रोगियों को अपने खान-पान का खास ख्याल रखना चाहिए. आपके खाने में हरी सब्जियां, फल और सलाद जैसी चीजों की मात्रा काफी ज्यादा होनी चाहिए. इसके अलावा बहुत ज्यादा मसालेदार और जंक फूड जैसी चीजों को जितना हो सके एवॉइड करना चाहिए.

यह भी पढ़ें: http://इन आयुर्वेदिक उपायों से दूर होगा टीबी का खतरनाक रोग

खाने में शामिल करें ये चीजें

Ayurvedic-remedies-for-Hypertension

लहसुन खाना हाईपरटेंशन के लिये फायदेमंद माना जाता है। इसकी दो या तीन कलियों को सुबह खाली पेट पानी के साथ चबाकर खाना चाहिए। चबाने में दिक्कत हो तो लहसुन के रस की 5-6 बूंद 20 मिली पानी में मिलाकर ले सकते हैं। इसके अलावा मेथी और अजवाइन के पानी का प्रयोग भी किया जा सकता है। इसी तरह से त्रिफला के पानी का प्रयोग भी कर सकते हैं। 20 ग्राम त्रिफला को रात में पानी में भिगो दें और सुबह पानी को सुबह निथारकर दो चम्मच शहद मिलाकर पीने से हाइपरटेंशन में फायदा मिलता है।

http://फैटी लिवर की समस्या है तो बैरिएट्रिक सर्जरी है इलाज