कई बीमारियों की वजह बन सकती है एंग्जाइटी, कहीं आपको तो नहीं …

anxiety problems
  • हर वक्त का स्ट्रेस है सेहत के लिये खतरनाक
  • तनाव बढ़ाता है ब्ल्ड प्रेशर
  • किडनी और दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा

कई बीमारियों की वजह, आजकल के लाइफस्टाइल में एंग्ज़ाइटी बन गई है। क्या आप हर वक्त तनाव में रहते हैं? स्ट्रेस और एंग्जाइटी की समस्या है तो सावधान हो जाएं। यह हृदय रोग तरफ ले जा सकता है। अगर एंग्जाइटी काफी समय तक रहती है, तो डिप्रेशन व हाइपरटेंशन की समस्या हो सकती है। ये दोनों समस्याएं दिल की बीमारियों की सबसे प्रमुख वजहें हैं। एंग्जाइटी से ही मरीज़ के दिल की धड़कनों की गति और ब्लड प्रेशर में लगातार उतार-चढ़ाव आता रहता है। इससे हाई ब्ल्ड प्रेशर के साथ हार्ट अटैक का खतरा बढ़ता है। एंग्जाइटी में कई बार ब्लड प्रेशर लो हो जाता है, जो पैनिक अटैक या हार्ट फेल्योर का कारण बन सकता है।

हो सकती है किडनी से जुड़ी समस्याएं

anxiety

एंग्जाइटी से किडनी संबंधी रोग भी हो सकते हैं। हॉर्मोन से संबंधित एंडोक्राइन सिस्टम भी लड़खड़ा जाता है। एंग्जाइटी से हमारे सेरोटोनिन और टेस्टोस्टेरॉन हॉर्मोंस भी प्रभावित होते हैं। इनकी वजह से कई अंगों की कार्यक्षमता पर असर पड़ता है। एंग्जाइटी से मस्तिष्क पर भी असर पड़ता है। मस्तिष्क में एन्यूरिज्म, इस्किमिया चेंजेज, स्ट्रेस रिएक्शन, लॉस ऑफ मेमोरी, मस्तिष्क की कार्यक्षमता में कमी आदि पर हो सकती है।

http://इन आयुर्वेदिक उपायों से दूर होगा टीबी का खतरनाक रोग

तीन तरह की होती है एंग्जाइटी

कई बीमारियों की वजह एंग्ज़ाइटी के तीन रूप होते हैं। सोशल एंग्जाइटी, बॉडी इमेज एंग्जाइटी व ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिस ऑर्डर।
 -सोशल एंग्जाइटी में हमें अजनबी के साथ बात करने में घबराहट होती है। भीड़ वाली जगहों या सामाजिक समारोह में वह जाने से घबराहट होती है। समारोह या पार्टी में ऐसा शख्स अनकंफर्टेबल फील करता है। उसका पसीना छूटने लगता है, खांसी या हिचकी आने लगती है।

http://पैरानाइड डिसऑर्डर : जानें क्या है यह बीमारी और कैसे हो…

महानगरों में 20 फीसदी लोग एंग्ज़ाइटी के शिकार

Anxiety-Attack

एक रिपोर्ट के मुताबिक 15-20 फीसदी लोग भारत के महानगरों में एंग्जाइटी के शिकार हैं। इनमें से 50 फीसदी लोग अपनी नींद पूरी नहीं कर पाते हैं। 65-70 फीसदी एंग्जाइटी के मरीज हाउसवाइफ होती हैं। अक्सर अकेलेपन की वजह से उनके दिमाग में नकारात्मक ख्याल आते हैं। जिससे वे तनावग्रस्त रहती हैं, उन्हें नींद न आने की समस्या, हाई ब्ल्ड प्रेशर की दिक्कत रहती है।