Air Brush Makeup, स्क्रीन के लिए परफेक्ट

Air Brush Makeup देता है नेचुरल व ग्लोइंग लुक। Air Brush Makeup त्चचा की रंगत से मेल खाता है, भीतर तक असर करता है और कैमरे के सामने लगता नहीं कि आपने चेहरे पर फाउंडेशन की परतें लगाई हैं। ..तो अगली बार मौका हो खास और आपको फेस करना हो हाई डिफाइन कैमरा तो पिक्चर परफेक्ट लुक के लिए करवाएं Air Brush Makeup।

यह भी पढ़ें: https://www.indiamoods.com/haryanas-baroda-by-election-hooda-attacked-khattar-government-for-increasing-prices/

पिक्चर परफेक्ट लुक

Airbrush Makeup

भले ही मेकअप ने आपकी शक्ल-सूरत बदल दी है पर आप स्क्रीन ब्यूटी जैसी प्लीजिंग व रीफेशिंग क्यों नहीं लग रहीं। अक्सर आप ऐसा सोचती होंगी। जानना चाहती होंगी कि स्क्रीन, पेज थ्री सेलिब्रिटीज और रैंप मेकअप और आपके मेकअप में क्या अंतर है? आप भी ग्लैमरस मेकअप की तरह बेस चेहरे पर लगाती हैं, फिर भी वह इतना आर्टिफिशियल क्यों लगता है? उनके बेस मेकअप और आपके बेस मेकअप में कहां कमी रह जाती है? ऐसे तमाम सवालों का एक ही Air Brush Makeup।

Air Brush Makeup, क्या है एयर ब्रश मेकअप

चेहरे की रंगत निखारने के लिए या दाग-धब्बों को छिपाने के लिए हाथ या Brush से लगाया फाउंडेशन चेहरे पर एकसार नहीं लग पाता। नतीजतन चेहरे पर दिखाई देती हैं मेकअप बेस व ब्लशर की परतें। यानी चेहरा नेचुरल कम, बनावटी अधिक दिखता है। ऐसे में सच्चाई यह है कि ट्रेडिशनल मेकअप नेचुरल नहीं लगता, वहीं एयर ब्रश मेकअप में चेहरे पर हैवी मेकअप के बावजूद चेहरा नेचुरल लगता है। असल में Air Brush Makeup एक किस्म का लिक्विड मेकअप है, जिसमें फाउंडेशन से लेकर आईशैडो तक मशीन से लगाया जाता है।

ऐसे होता है मेकअप

मेकअप शुरू करने से पहले चेहरे की क्लींजिंग और टोनिंग की जाती है और इसके बाद चेहरे की खामियों, जैसे- मुहांसे के निशान, मस्सों, काले घेरे, दाग-धब्बों आदि को क्ंसीलर से छिपाया जाता है। इसके उपरांत एयर ब्रश मेकअप की शुरूआत की जाती है। यानी बेस, नोज शेपिंग (कॉन्ट्यूरिंग), चीक मेकअप और आंखों के आसपास मेकअप लगाया जाता है।

Air Brush Makeup, एयर गन का इस्तेमाल

Air Brush Makeup में एयर गन का इस्तेमाल किया जाता है, जिसके तीन प्रमुख भाग हैं- गन, होज (मिनी टैंक) और क्ंप्रेसर। होज में लिक्विड फाउंडेशन, ब्लशर और आईशैडो का इस्तेमाल किया जाता है। फाउंडेशन (लिक्विड बेस्ड या सिलिकॉन) को स्पे्र्र करने के बाद सॉफ्ट टिश्यू पेपर पर दोबारा स्पे्र करना बहुत जरूरी है, क्योंकि दूसरा प्रॉडक्ट डालने पर पहले वाला दूसरे के साथ मिल जाता है। यानी रंग बदरंग हो जाता है। इससे बचने के लिए पहले स्प्रे को बाहर निकालना बहुत जरूरी होता है।
यही नहीं आप क्रिएटिव हैं तो इससे मेकअप के अलावा बाॅडी पर special effects (टैटूज) भी दे सकती हैं।

उतारें ध्यान से

वैसे मेकअप कैसा भी हो उसे मेकअप रिमूवर से ही साफ करना चाहिए। साबुन से साधरण मेकअप उतर जाता है (त्वचा रूखी-सूखी हो जाती है), लेकिन एयर ब्रश मेकअप नहीं। इसे उतारने के लिए मेकअप रिमूवर का इस्तेमाल करें। यदि मेकअप रिमूवर उपलब्ध न हो तो क्लींजिंग मिल्क का प्रयोग किया जा सकता है।