Aaj Ka Panchang 5 June Sat, एकादशी पर करें श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ

हिंदू पंचांग की ग्यारहवी तिथि को एकादशी कहते हैं। यह तिथि मास में दो बार आती है। पूर्णिमा के बाद और अमावस्या के बाद। पूर्णिमा के बाद आने वाली एकादशी को कृष्ण पक्ष की एकादशी और अमावस्या के बाद आने वाली एकादशी को शुक्ल पक्ष की एकादशी कहते हैं।

आज का पंचांग 4 June’21

  • ⛅ दिनांक 05 जून 2021
  • ⛅ दिन – शनिवार
  • ⛅ विक्रम संवत – 2078 (गुजरात – 2077)
  • ⛅ शक संवत – 1943
  • ⛅ अयन – उत्तरायण
  • ⛅ ऋतु – ग्रीष्म
  • ⛅ मास – ज्येष्ठ (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार – वैशाख)
  • ⛅ पक्ष – कृष्ण
  • ⛅ तिथि – एकादशी पूर्ण रात्रि तक
  • ⛅ नक्षत्र – रेवती रात्रि 11:28 तत्पश्चात अश्विनी
  • ⛅ योग – सौभाग्य 06 जून प्रातः 03:36 तक तत्पश्चात शोभन
  • ⛅ राहुकाल – सुबह 09:17 से सुबह 10:57 तक
  • ⛅ सूर्योदय – 05:57
  • ⛅ सूर्यास्त – 19:17
  • ⛅ दिशाशूल – पूर्व दिशा में
  • ⛅ व्रत पर्व विवरण – एकादशी वृद्धि तिथि, विश्व पर्यावरण दिवस

    यह भी पढ़ें: Aaj Ka Panchang 4 June Friday, पंचकों में साफ-सफाई से जुड़े Products नहीं खरीदें

Lord Vishnu

एकादशी पर क्या करें, क्या नहीं

हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति बनी रहती है l राम रामेति रामेति । रमे रामे मनोरमे ।। सहस्त्र नाम त तुल्यं । राम नाम वरानने ।। आज एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है l एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए। एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है | एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं अन्यथा पुत्र का नाश होता है। जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: https://www.indiamoods.com/punjab-government-said-private-hospitals-will-have-to-return-the-remaining-vaccines/

आज है अपरा एकादशी

05 जून 2021 शनिवार को प्रातः 04:08 से 06 जून रविवार को सुबह 06:19 तक एकादशी है । विशेष – 06 जून रविवार को एकादशी का व्रत उपवास रखें । ‘अपरा एकादशी’ को उपवास करके भगवान वामन की पूजा करने से मनुष्य सब पापों से मुक्त हो श्रीविष्णुलोक में प्रतिष्ठित होता है । इसका महात्म पढ़ने और सुनने से सहस्र गौदान का फल मिलता है।

जानें आज के नक्षत्रों को

रेवती रात्रि 11:28 के बाद अश्विनी। चंद्रमा 👉 मीन राशि में, रात्रि 11:28 के बाद मेष राशि में रहेंगे। राहुकाल 👉 संभव हो तो प्रातः 09:03 से 10:44 तक महत्वपूर्ण कार्य न करें। पंचक ➡️ पंचक रात्रि 11:28 पर पूर्ण होंगे है।

श्रीहरि विष्णु के 1,000 नाम की महिमा : https://hindi.webdunia.com/aarti-chalisa/vishnu-1000-names-117070300057_1.html