Aaj Ka Panchang 28 May Fri, शुक्र ग्रह की पूजा से मिलेंगे जीवन के समस्त सुख

शुक्रवार कई मायनों में खास दिन होता है। इसके पूजन से जीवन खुशहाल होता है। शुक्रवार के दिन दक्षिणावर्ती शंख से भगवान विष्णु पर जल चढ़ाकर उन्हें पीले चन्दन अथवा केसर का तिलक करें। इस उपाय में मां लक्ष्मी जल्दी प्रसन्न हो जाती हैं। शुक्रवार के दिन नियम पूर्वक धन लाभ के लिए लक्ष्मी माँ को अत्यंत प्रिय “श्री सूक्त”, “महालक्ष्मी अष्टकम” एवं समस्त संकटो को दूर करने के लिए “माँ दुर्गा के 32 चमत्कारी नमो का पाठ” अवश्य ही करें । माँ लक्ष्मी को हलवे या खीर का भोग लगाना चाहिए । शुक्रवार के दिन शुक्र ग्रह की आराधना करने से जीवन में समस्त सुख, ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है, दाम्पत्य जीवन सुखमय होता है बड़ा भवन, विदेश यात्रा के योग बनते है।

आज का पंचांग 28 May

  • 🔮 विक्रम संवत् 2078 आनन्द, विक्रम सम्वत संवत्सर तदुपरि खिस्ताब्द आंग्ल वर्ष 2021
  • 🔯 शक संवत – 1943,
  • ☸️ कलि संवत 5122
  • ☣️ अयन – उत्तरायण
  • 🌦️ ऋतु – सौर ग्रीष्म ऋतु
  • 🌤️ मास – ज्यैष्ठ माह
  • 🌖 पक्ष – कृष्ण पक्ष,
  • 📆 तिथि – द्वितीया – 09:36 तक तत्पश्चात् तृतीया
  • 📝 तिथि का स्वामी – द्वितीया तिथि के स्वामी ब्राह्ग जी, और तृतीया तिथि के स्वामी पार्वती शिव जी है।
  • 💫 नक्षत्र – मूल – 20:02 तक तत्पश्चात पूर्वाषाढा
  • 🪐 नक्षत्र के स्वामी – मूल नक्षत्र के देवता निर्रुती (राक्षस) जी है।
  • 🔊 योग : साध्य – 14:58 तक
  • ⚡ प्रथम करण : – गर – 09:36 तक
  • ✨ द्वितीय करण :- वणिज – 20:01 तक
  • 🔥 गुलिक काल : – शुक्रवार को शुभ गुलिक प्रात: 7:30 से 9:00 तक ।
  • ⚜️ दिशाशूल – शुक्रवार को पश्चिम दिशा का दिकशूल होता है । यात्रा, कार्यों में सफलता के लिए घर से दही खाकर जाएँ ।
  • 🤖 राहुकाल -दिन – 10:30 से 12:00 तक।
  • 🌞 सूर्योदय -प्रातः 05:32
  • 🌅 सूर्यास्त – सायं : 18:44
  • 🌟 अभिजित मुहूर्तपूर्वान्ह 11:51 एएम से 12:46 पीएम तक_
  • ✡️ विजय मुहूर्त दोपहर 02.36 पीएम से 03.31 पीएम तक
  • 🗣️ निशिथ काल रात 11.58 पीएम से 12.39 एएम तक (29 मई)
  • 🐃 गोधूलि मुहूर्त शाम 06.59 पीएम से 07.23 पीएम तक
  • 👸🏻 ब्रह्म मुहूर्त सुबह 04.03 एएम से 04.44 एएम तक (29 मई)
  • 💧 अमृत काल दोपहर 02:18 पीएम से 03:44 पीएम तक
  • 🚕 यात्रा शकुन- शुक्रवार को मीठा दही खाकर यात्रा पर निकलें।

    यह भी पढ़ें: Aaj Ka Panchang 27 May Thur, दाम्पत्य जीवन को सुखमय बनाएगी बृहस्पति की पूजा
shiv

आज का मंत्र और उपाय जरूर करें

आज का मंत्र-ॐ द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम:। आज का उपाय-मंदिर में लस्सी चढाएं। वनस्पति तंत्र उपाय-गूलर के वृक्ष में जल चढ़ाएं। पर्व व त्योहार- विश्व भुख दिवस, अंतर्राष्ट्रीय महिला स्वास्थ्य कार्यवाही दिवस, वीणा दान , देवर्षि नारद जयंती, स्वातंत्र्यवीर सावरकर जंयती। विशेष – द्वितीया तिथि को कटेरी फल का तथा तृतीया तिथि को नमक का दान और भक्षण दोनों त्याज्य बताया गया है। द्वितीया तिथि सुमंगला और कार्य सिद्धिकारी तिथि मानी जाती है। इस द्वितीया तिथि के स्वामी भगवान ब्रह्माजी हैं। यह द्वितीया तिथि भद्रा नाम से विख्यात मानी जाती है। यह द्वितीया तिथि शुक्ल पक्ष में अशुभ तथा कृष्ण पक्ष में शुभ फलदायिनी होती है।

यह भी पढ़ें: Social Media Misuse रोकेंगे नये नियम, सरकार ने कहा- Users को नहीं है डरने की ज़रूरत

Vastu tips


प्राचीन वास्तुशास्त्र में उत्तर-पश्चिम दिशा को दही मथने, औषधियों और भोज्य पदार्थों के रखे जाने के लिये और रति गृह के लिये इस दिशा को निर्देशित किया गया है। व्यवहार में यह देखा गया है कि घर की उत्तर-पश्चिम दिशा में गड्ढा करने के बहुत शुभ परिणाम देखने में नहीं आते। इस दिशा में गड्ढा करने से गृह स्वामी पर ऋण का भारी बोझ हो जाता है और कई बार तो प्रॉपर्टी नीलाम होने की नौबत आ जाती है।

Vaibhav Laxmi Vrat: https://www.livehindustan.com/astrology/story-vaibhav-laxmi-vrat-when-and-how-to-do-vaibhav-laxmi-vrat-know-here-what-to-eat-on-vaibhav-lakshmi-vrat-and-puja-vidhi-3958978.html