Aaj Ka Panchang- आज है इस देवी की जयंती, दुख हरती, शत्रु नाश करती मां बगुलामुखी

Aaj Ka Panchang- पंचांग के अनुसार 20 मई गुरुवार को वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि है. इस दिन चंद्रमा सिंह राशि और मघा नक्षत्र है. आज का दिन विशेष है. आज का दिन मां बगलामुखी को समर्पित है. आज बगलामुखी जयंती है. आज ग्रहों की स्थिति मेष राशि से मीन राशि तक के लोगों के लिए महत्वपूर्ण है.


Aaj Ka Panchang- 19 मई 2021 , Thursday

  • विक्रमी संवत्: 2078
  • मास पूर्णिमांत: वैशाख
  • पक्ष: शुक्ल
  • दिन: गुरूवार
  • तिथि: अष्टमी – 12:25:01 तक
  • नक्षत्र: मघा – 15:58:09 तक
  • करण: बव – 12:25:01 तक, बालव – 23:54:37 तक
  • योग: व्याघात – 23:26:41 तक
  • सूर्योदय: 05:27:55 AM
  • सूर्यास्त: 19:07:32 PM
  • चन्द्रमा: सिंह राशि
  • द्रिक ऋतु: ग्रीष्म
  • राहुकाल: 14:00:10 से 15:42:37 तक (इस काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है)
  • शुभ मुहूर्त का समय – अभिजीत मुहूर्त: 11:50:24 से 12:45:02 तक
  • दिशा शूल: दक्षिण
  • अशुभ मुहूर्त का समय –
  • दुष्टमुहूर्त: 10:01:07 से 10:55:45 तक, 15:28:58 से 16:23:36 तक
  • कुलिक: 10:01:07 से 10:55:45 तक
  • कालवेला / अर्द्धयाम: 17:18:15 से 18:12:53 तक
  • यमघण्ट: 06:22:33 से 07:17:11 तक
  • कंटक: 15:28:58 से 16:23:36 तक
  • यमगण्ड: 05:27:55 से 07:10:22 तक
  • गुलिक काल: 08:52:49 से 10:35:16 तक

  • यह भी पढ़ें:Monday 17 May पंचांग, शिव भक्ति से मिटेगा काल सर्प दोष

शत्रुओं का विनाश करती हैं मां बगलामुखी

Baglamukhi Ma

दस महाविद्याओं में अष्टम स्वरूप माता बगुलामुखी का है। इनका ध्यान बगुला पक्षी की तरह एकाग्र है। इसलिए इन्हें बगलामुखी कहते हैं। विशेष रूप से मां का पूजन शत्रु पर विजय, राजनीतिक जीत, बच्चों की शिक्षा, मुकदमों में विजय के लिए किया जाता है। इनके पूजन से भक्त को उच्च पद प्राप्त होता है। उच्च पदस्थ अधिकारी, नेता, अभिनेता मां पीतांबरा की असीम अराधना से विजयश्री प्राप्त करते हैं। सामान्य से उच्च पदस्थ व्यक्ति इनका स्मरण करने पर शत्रु का विनाश कर देता है। शत्रु के विनाश से तात्पर्य उसकी दुर्बुद्धि का विनाश कर उसे सद्पुरुष बना देता है।

कल्याण की देवी हैं

यह देवी राजयोग की देवी हैं। c। इसलिए नेता भी इनकी शरण में जाते हैं। देवी कल्याण की देवी हैं। इनको अन्याय पसंद नहीं। यह न्याय की देवी हैं। अधर्म, पाप और अनुचित कामना इनको पसंद नहीं। कैसा भी संकट आये, यह उनको दूर कर देती हैं। अन्य देवियों से इनकी आराधना का विधान अलग है। इनकी मानसिक पूजा है। यंत्र, तंत्र और मंत्र तीनों ही रूपों में इनकी पूजा की जाती है।

Aaj Ka Panchang-मां को पीला रंग बहुत प्रिय है

बगलामुखी देवी की आराधना बहुत संयम पूर्वक की जाती है। बगलामुखी जयंती के दिन प्रातः स्नान करके सबसे पहले पीले वस्त्र धारण करें। पवित्र स्थल जहां पर पूजा करनी है उसे गंगा जल से धो दें। ध्यान रहे कि देवी की पूजा हमेशा अकेले करें। देवी की पूजा करते समय पूर्व की तरह मुंह करें। बगलामुखी देवी को समर्पित करने के लिए पीले चावल, पीले फूल और पीले प्रसाद का प्रयोग करें। जयंती के व्रती निराहार रहें। रात में केवल फल का सेवन करें। दूसरे पूजा करने के बाद भोजन ग्रहण करें। पूजा करने के बाद छोटी कन्याओं को भोजन कराकर दक्षिणा दें।

मां बगलामुखी जयंती शुभ मुहूर्त

  • बगलामुखी जयंती तिथि: 20 मई 2021
  • पूजा का शुभ समय: सुबह 11 बजकर 50 मिनट से दोपहर 12 बजकर 45 मिनट तक.
  • पूजा की कुल अवधि: 55 मिनट.