आम के दाम सुनकर रह जाएंगे हैरान, इंदौर में 1000 रुपये में मिल रहा आमों की मलिका ‘नूरजहां’ का एक नग

noorjahan

आम के दाम आसमान पर वाली कहावत नूरजहां किस्म के आमों पर सटीक लागू होती है। मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल आलीराजपुर जिले का कट्ठीवाड़ा क्षेत्र देश-विदेश में अपने खास किस्म के आम नूरजहां की वजह से मशहूर है। यहां अफगानी नस्ल के इस खास आम की खूब पैदावार होती है। यह आम अपने गुणों और स्वाद की वजह से इतना प्रसिद्घ है कि फसल आने के पहले ही इसकी बुकिंग हो जाती है। नूरजहां किस्म के एक आम का वजन दो से साढ़े तीन किलो तक होता है और एक नग 500 से एक हजार रुपये तक में बिकता है।

काफी वज़नदार होता है नूरजहां किस्म का आम

बीते साल आम के शौकीनों को पिछले साल मायूसी हाथ लगी थी। लेकिन इस बार मौसम की मेहरबानी से इसकी अच्छी फसल हुई है और इसके वजनी आम पकने से पहले ही ऊंचे दामों पर बुक हो चुके हैं। मूल रूप से अफगानिस्तानी किस्म के इस आम के गिने-चुने पेड़ मध्य प्रदेश के अलीराजपुर जिले के कट्ठीवाड़ा क्षेत्र में पाये जाते हैं। यह इलाका गुजरात से सटा है।

यह भी पढ़ें: सेब और आम वाले इलाकों में होगी मज़दूरों की व्यवस्था, जयराम ठाकुर ने निर्देश दिए

आम के दाम कर रहे हैरान, 3 पेड़ों पर 250 फल

Noorjahan mango

इंदौर से करीब 250 किलोमीटर दूर कट्ठीवाड़ा के आम उत्पादक शिवराज सिंह जाधव ने बताया कि उनके बाग में नूरजहां आम के 3 पेड़ों पर 250 फल लगे हैं। इनकी बुकिंग काफी पहले ही हो चुकी है। लोगों ने नूरजहां के एक आम की 500 से 1000 रुपये तक कीमत लगाई है। इसकी एडवांस बुकिंग करने वालों में मध्य प्रदेश और गुजरात के शौकीन शामिल हैं। जाधव ने बताया कि इस बार नूरजहां आमों का वजन 2 से साढ़े 3 किलोग्राम के बीच रहने वाला है।

कोरोना का प्रकोप आम पर भी

कट्ठीवाड़ा में नूरजहां की बागवानी के विशेषज्ञ इशाक मंसूरी ने बताया कि इस बार नूरजहां की फसल तो अच्छी हुई है, लेकिन कोरोना के प्रकोप के कारण आमों के कारोबार पर थोड़ा असर पड़ा है। उन्होंने बताया कि पिछले साल नूरजहां के पेड़ों पर संभवतः जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों के कारण बौर ही नहीं आया था। इससे पहले 2019 में इसके फलों का वजन औसतन 2.75 किलोग्राम के रहा था। तब खरीदारों ने इसके लिए 1200 रुपये तक की ऊंची कीमत चुकाई थी।

आम के दाम ही नहीं आकार भी करता है हैरान, एक फुट लंबा हो सकता है फल

बागवानी के जानकारों के अनुसार नूरजहां के पेड़ों पर आमतौर पर जनवरी-फरवरी से बौर आना शुरू होता है। इसके फल जून की शुरुआत में तैयार हो जाते हैं। यह आम एक फुट तक लंबे हो सकते हैं। इनकी गुठली का वजन 150 से 200 ग्राम के बीच होता है।