58 years के बाद Navratri में बन रहा दुर्लभ योग

58 years के बाद Navratri में बन रहा दुर्लभ योग। शनिवार 17 अक्टूबर से मां दुर्गा की पूजा आराधना को लेकर नौ दिवसीय पर्व नवरात्रि शुरू होगा जो 25 अक्टूबर तक मनाया जाएगा। इस दिन सूर्य देव का राशि परिवर्तन भी होगा। सूर्य तुला में प्रवेश करेगा। इस राशि में पहले से वक्री बुध भी रहेगा। इस कारण बुध और आदित्य का योग बनेगा। पं. नरेन्द्र कृष्ण जी ने बताया कि नवरात्रि में शनि मकर में गुरु धनु राशि में रहेंगे, यह दोनों 58 वर्ष बाद एक साथ अपनी अपनी राशि में रहेंगे, वर्ष 2020 से पहले यह योग 1962 में बना था उस समय 29 सितंबर से नवरात्रि शुरू हुई थी।

नौ दिनों की होगी नवरात्रि

इस साल नवरात्रि पूरे नौ दिनों की होगी। इस दिन सूर्य तुला राशि में प्रवेश कर नीच का होगा। 17 अक्टूबर को बुध और चंद्र भी तुला राशि में रहेंगे। चंद्र 18 अक्टूबर को वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा। सूर्य और बुध का यह योग बुधादित्य योग के नाम से पूरे नवरात्र तक रहेगा।

58 years के बाद Navratri में बन रहा दुर्लभ योग, घोड़ा पर सवार होकर आएगी मां

इस साल नवरात्रि पूरे नौ दिनों की होगी। इस दिन सूर्य तुला राशि में प्रवेश कर नीच का होगा। 17 अक्टूबर को बुध और चंद्र भी तुला राशि में रहेंगे। चंद्र 18 अक्टूबर को वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा। सूर्य और बुध का यह योग बुधादित्य योग के नाम से पूरे नवरात्र तक रहेगा।

यह भी पढ़ें – https://www.indiamoods.com/more-than-70000-cases-of-covid19-the-figure-of-infected-has-crossed-6-million/

58 years के बाद Navratri में बन रहा दुर्लभ योग, घोड़ा पर सवार होकर आएगी देवी मां

शनिवार से शुरू हो रहे नवरात्र में मां दुर्गा जी का वाहन घोड़ा रहेगा, उन्होंने बताया कि नवरात्रि जिस दिन से शुरू होती है उसके अनुसार इनका वाहन होता है, जैसे सोमवार या रविवार से शुरू हो तो इनका वाहन हाथी, शनिवार या मंगलवार से शुरू हो तो घोड़ा, गुरुवार एवं शुक्रवार शुरू हो तो डोली और बुधवार से शुरू होने पर माता का वाहन नाव होता है।