महाराष्‍ट्र में राज्‍यपाल ने NCP को दिया न्‍योता, 24 घंटे का अल्टीमेटम

Aditya
Aditya

महाराष्‍ट्र में राज्‍यपाल ने NCP को दी 24 घंटे की मोहलत नहीं बढ़ाई. सरकार बनाने से शिवसेना के चूक जाने के बाद राज्‍यपाल ने एनसीपी को सरकार बनाने का न्‍योता दिया है. शिवसेना को 7:30 तक का समय दिया गया था, लेकिन दावा पेश नहीं किया जा सका. महाराष्ट्र की 288 सदस्यीय सदन में भाजपा 105 विधायकों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है, जबकि 56 विधायकों के साथ शिवसेना दूसरी बड़ी पार्टी, और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी 54 विधायकों के साथ राज्‍य में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी है. कांग्रेस के पास 44 सीटें हैं.

महाराष्‍ट्र में राज्‍यपाल से मिले आदित्य ठाकरे

bhagat-singh-aditya
bhagat-singh-aditya

राजभवन पहुंचे आदित्य ठाकरे ने राज्यपाल से मुलाकात के बाद मीडिया से बात की, वहां उन्होंने बताया कि भाजपा द्वारा इनकार करने के बाद राज्यपाल ऑफिस की तरफ से हमें सरकार बनाने का आमंत्रण मिला जिसमें 24 घंटे का वक्त दिया गया था. आज हमने उनसे मुलाकात की और राज्यपाल से सरकार बनाने की इच्छा के बारे में बताया और साथ ही राज्यपाल से सरकार बनाने के लिए अतिरिक्त समय की मांग की है.

यह भी पढ़ें: https://www.indiamoods.com/now-shiv-sena-said-in-maharashtra-congress-is-not-the-enemy-of-the-state/

महाराष्‍ट्र में राज्‍यपाल से मुलाकात में मांगी थी मोहलत, कोश्यारी का इनकार

aditya meets koshyari
aditya meets koshyari

आदित्य ठाकरे ने कहा कि हमने राज्यपाल को बताया कि हम दो अन्य दलों के साथ मिलकर सरकार बनाने की स्थिति में है. इसके लिए हमें अतिरिक्त समय चाहिए. उन्होंने बताया कि राज्यपाल ने 48 घंटे का समय देने से इनकार कर दिया है साथ ही शिवसेना को नसीहत दी है कि वह जल्द से जल्द सरकार बनाने का दावा पेश करे.

इस मामले के तकनीकी पहलू पर बात करें तो जानकारों का कहना है कि ऐसी परिस्थिति में राज्यपाल हर दल के लिए 24 घंटों का समय आरक्षित रखते हैं. जिसके तहत बीजेपी को 24 घंटों का  समय दिया जा चुका है, शिवसेना ने अपने 24 घंटे पूरे कर लिए हैं.

राज्‍यपाल ने NCP को अगले 24 घंटे का समय दिया है. मंगलवार रात 8 बजे तक NCP को अपना संख्‍या बल दिखाना होगा.

राज्‍यपाल की ओर से एनसीपी को सरकार बनाने का न्‍योता मिलने के बाद पार्टी नेता नवाब मलिक ने कहा, सरकार बनाने के लिए राज्‍यपाल ने उनकी पार्टी को न्‍योता दिया है. हमें 24 घंटे का समय मिला है, लेकिन हम अपनी सहयोगी पार्टी कांग्रेस से चर्चा करेंगे. कांग्रेस ने साफ कर दिया है कि एनसीपी जो फैसला लेगी हम उसके साथ हैं.