पवित्र अमरनाथ गुफा में बना 20-22 फुट ऊंचा हिमलिंग, फिलहाल यात्रा पर मंडरा रहा है कोरोना का साया

shri amarnath himling
file

पवित्र अमरनाथ गुफा में इस बार 20 से 22 फुट ऊंचा हिमलिंग प्रकट हुआ है। बाबा के भवन तक जाने वाले बालटाल के रास्ते में अभी 20 फुट के करीब बर्फ जमा है। खून जमा देने वाली सर्दी पड़ रही है। सूत्रों के अनुसार गुफा का जायजा लेने गयी पुलिस की एक टुकड़ी से इस बारे में जानकारी मिली है। हालांकि, आधिकारिक तौर पर इस संबंध में कुछ नहीं कहा गया।

अनंतनाग में बढ़े कोरोना के केस

shri amarnath
file

पिछले साल अमरनाथ यात्रा कोरोना की भेंट चढ़ गयी थी। कोरोना की दूसरी लहर के कारण उपजी परिस्थितियों के चलते जम्मू-कश्मीर प्रशासन अमरनाथ यात्रा करवाने पर फिलहाल असमंजस में है। इसके लिए कई विकल्पों पर विचार किया जा रहा है, पर सब कोरोना की रफ्तार पर निर्भर है। यात्रा से जुड़े अधिकारियों के अनुसार, सबसे बड़ा खतरा अनंतनाग जिले में बढ़ते कोरोना केस हैं।

पवित्र अमरनाथ गुफा की यात्रा पर कोरोना का संकट

अनंतनाग जम्मू-कश्मीर में सबसे अधिक कोरोना मरीजों के साथ शीर्ष पर है। प्रशासन यहां कोई ढील देने को तैयार नहीं है। इसी जिले में अमरनाथ गुफा है और इसी से होकर श्रद्धालुओं को यात्रा करनी है। एक अधिकारी के अनुसार, प्रशासन को कई विकल्प दिए जा रहे हैं। एक विकल्प यात्रा अवधि 15 दिन करने और बालटाल मार्ग का इस्तेमाल करने का भी है। अन्य विकल्प है कि सिर्फ हेल काॅप्टर से यात्रा की अनुमति दी जाये।

यह भी पढ़ें: श्री अमरनाथ यात्रा की तैयारियां शुरू, श्रीनगर से बालटाल बेस कैंप तक मिलेगी हेलीकॉप्टर सर्विस

पवित्र अमरनाथ गुफा

समस्या यह है कि किसी भी विकल्प को अंजाम तक पहुंचाने के लिए व्यवस्थाएं होना लाजिमी हैं, लेकिन इस बार की यात्रा के लिए किसी भी व्यवस्था को अभी तक हकीकत में नहीं बदला जा सका है। प्रशासन का कहना है कि अधिकारियों, कर्मचारियों से लेकर सुरक्षाकर्मी तक कोरोना संबंधी ड्यूटियों में व्यस्त हैं।

अप्रैल से शुरू हुआ रजिस्ट्रेशन

श्री अमरनाथ की पवित्र गुफा की वार्षिक तीर्थयात्रा-2021 के लिए श्रद्धालुओं का पंजीकरण पहली अप्रैल को शुरु किया गया था। देश के विभिन्न हिस्सों की तरह प्रदेश में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए इसे 22 अप्रैल को अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिया गया था। इस वर्ष यह तीर्थयात्रा 28 जून को शुरु होनी है।