सेहत के लिये कुछ कदम…/ Walking is a fantastic way to address many health problems

 

पैदल चलना कई मायनों में आपके लिए सेहतमंद साबित हो सकता है। ज्यादातर लोग अपने मोटापे से पीछा छुड़ाने के लिए पैदल चलने का रास्ता अपनाते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि पैदल चलना हड्डियों की सलामती के लिए किसी टॉनिक से कम नहीं। वजन कम करना हो या फिर बुढ़ापे तक हड्डियों को ठीक ठाक रखना हो, पैदल चलना किसी एक्सरसाइज से कम नहीं। खासकर तब जब एक्सरसाइज के नाम पर ज्यादातर लोग बिदकते हों। या फिर किसी के पास एक्सरसाइज के लिए पर्याप्त समय नहीं है, ऐसे में पैदल चलना काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

मजबूत होंगी हड्डियां

पैदल चलने से पैरों की निचली हड्डियों और मांसपेशियों पर धीरे-धीरे दबाब पड़ता है जिससे वह मजबूत होती है। चलने से एड़ी में हो रही गति से नाड़ी संबंधी घुमाव पर प्रभाव पड़ता है। हड्डियों व मांसपेशियों पर दबाव पड़ने से इसकी मजबूती और बेहतर होती हैं।

पाचन शक्ति

पैदल चलने के दौरान मेटाबाॅलिज्म बढ़ने से शरीर में आॅक्सीजन कीमांग भी बढ़ जाती है, जिससे की फेफड़ो में फैलाव होने लगता है। इससे उसमेंज्यादा आॅक्सीजन प्रवाहित होता है और दिल तेजी से धड़कता है। नतीजतन अधिकमात्रा में आॅक्सीजनेटिड रक्त मांसपेशियों तक पहुंचता है। इसका सीधा गैस्ट्रोइन्टेस्टाइनल सिस्टम पर भी पड़ता है।

कम वजन

यदि वजन कम करने के लिए पैदल चलना चाहते हैं तो शुरूआत कमचलने से करें। इसके लिए एक दिन में दो या तीन किमी चलें और बाद में धीरे-धीरे इसे बढ़ाएं। इससे हर महीने में दो से तीन किलो वजन घटाने का लक्ष्य आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।

प्रसन्न मन

पैदल चलने से मन का भी सीधा ताल्लुक है, क्योंकि इस दौरान शरीर से एड्रोनाइल नाम का हार्मोन प्रवाहित होता है जिससे हमारा मन प्रसन्न रहता है।

पैदल चलते समय ध्यान रखें

वैसे तो आप किसी भी समय पैदल टहलने जा सकते हैं, लेकिन सुबह के समय टहलना ज्यादा फायदेमंद होगा। सुबह के वक्त ताजी हवा चल रही होती है, ऐसें में टहलने का फायदा दोगुना हो जाता है। सर्दी के मौसम में सुबह के बजाए जब हल्की गुनगुनी धूप निकली हो तब टहलने के लिए निकलें। क्योंकि धुंध व जमी हुई धूल हवा को अस्वच्छ बना देती हैं और यह हवा अस्थमा के मरीजों और बुजुर्गों के लिए नुकसानदायक होता है। कभी भी खाली पेट सैर करने के लिए नहीं जाएं, क्योंकि खाली पेट सैरकरने से शरीर में तीव्रता नहीं आती है। सैर करने से पहले पानी, चाय, कॉफी या नींबू-पानी पीना सही रहता है। यदि गर्मी का समय है तो वॉक करने से पहले खूब सारा पानी व इलैक्ट्रोलाइट्स घोल पी लें।

खाना खाने के बाद हमेशा आराम से पैदल चलें ताकि इन्टेस्टाइन यानी आंत की तरफ रक्त प्रवाह हो सके। यह पाचन प्रकिया में बेहद मददगार साबित होता है। चलते समय अपना सिर व शरीर एकदम सीधा रखें और अपनी चाल को बिल्कुल बैलेंस में रखें। आप के चेहरे और कंधे के बीच एक वर्ग बनना चाहिए और आप का एक पंजा दूसरे के पीछे चलना चाहिए। वजन घटाने के लिए जाॅगिंग के साथ-साथ तेज गति के साथ वॉकिंग एक बेहतर आइडिया है, लेकिन यदि आप दिल या फेफड़े के मरीज हैं तो फिर इस संबन्ध में कार्डियोलोजिस्ट की सलाह लेना ना भूलें। चलते समय आरामदायक पैड वाले स्नीकर्सपहनना ना भूलें। वॉक शुरू करने के पहले पैरों को खींचना ना भूलें।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here