तिहाड़ लाया गया जेकेएलएफ प्रमुख यासीन मलिक

yasin-malik

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों और अलगाववादी समूहों को धन मुहैया कराने के मामले में बुधवार को जेकेएलएफ प्रमुख यासीन मलिक को गिरफ्तार कर लिया। अधिकारियों ने बताया कि एनआईए की विशेष अदालत के जांच एजेंसी को उसे हिरासत में लेकर पूछताछ करने का आदेश देने के बाद मलिक को मंगलवार शाम राष्ट्रीय राजधानी लाया गया था। जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) प्रमुख को पुलिस संरक्षा में तिहाड़ जेल ले जाया गया।

पिछले महीने गिरफ्तार किया गया था

yasin malik

जेकेएलएफ प्रमुख यासीन मलिक को पिछले महीने गिरफ्तार किया गया था और जम्मू के कोट बलवल जेल में डाला गया था. उससे बुधवार को एनआईए टेरर फंडिंग केस में पूछताछ करेगी. खबरों के मुताबिक मलिक को 11-12 बजे दिन में एनआईए कोर्ट में हाजिर किया जा सकता है. मलिक के खिलाफ सीबीआई ने भी जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट में अर्जी डाली है और उसे तकरीबन तीन दशक पुराने मामलों में आरोपित किया है. हाईकोर्ट ने सीबीआई की अर्जी पर फिलहाल अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है.

 http://पाकिस्तान को फिर है एयर स्ट्राइक का डर, कुरैशी ने बताई…

मलिक पर कई आपराधिक मामले दर्ज

यासीन मलिक पर कई आपराधिक धाराओं के तहत मामले दर्ज हैं. 1989 में तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी रूबैया सईद का अपहरण और 1990 में भारतीय वायु सेना के चार जवानों की हत्या के मामले इसमें प्रमुख हैं. एनआईए ने अभी हाल में जम्मू स्थित विशेष अदालत में गुहार लगाई थी कि टेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक से पूछताछ के लिए उसे रिमांड पर दिया जाए. एनआईए कई घटनाओं की कड़ियों को जोड़ते हुए यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि घाटी में आतंकी गतिविधियों, सेना के जवानों पर पत्थरबाजी और स्कूल-कालेज सहित सरकारी प्रतिष्ठानों पर हमले में यासीन मलिक का क्या हाथ है.

एनआईए ने अपने केस में पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद का भी नाम शामिल किया है और उसे आरोपी बनाया है. इसके अलावा एनआईए के मुकदमे में सैयद अली शाह गिलानी का धड़ा हुर्रियत कॉन्फ्रेंस, मीर वाईज उमर फारूक, हिजबुल मुजाहिदीन और दुख्तरान-ए-मिल्लत के नाम भी हैं. अभी कुछ दिन पहले ही यासीन मलिक के संगठन जेकेएलएफ को केंद्र सरकार ने गैरकानूनी गतिविधियां निवारक अधिनियम के तहत प्रतिबंधित किया है. गृह सचिव राजीव गॉबा ने कहा कि आतंकवाद के गंभीर आरोप के मद्देनजर सरकार ने जेकेएलएफ (यासीन मलिक गुट) पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

कश्मीरी पंडितों को निकालने का मास्टरमाइंड

गृह मंत्रालय की एक अधिसूचना में कहा गया कि कश्मीर घाटी से कश्मीरी पंडितों को निकालने का यासीन मलिक मास्टरमाइंड रहा है और उनके संहार के लिए जिम्मेदार है. जेकेएलएफ को भारतीय वायुसेना के चार अफसरों की हत्या का इलजाम लगता रहा है. साथ ही उस पर तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री मुफ्ती मुहम्मद सईद की बेटी रुबैया सईद के अपहरण का भी आरोप लगा था. इससे पहले केंद्र ने जम्मू कश्मीर की जमात-ए-इस्लामी पर प्रतिबंध लगाया था.