छत्तीसगढ़ में हिंसा का रास्ता छोड़ मुख्यधारा में लौट रहे Naxals, दंतेवाड़ा में 32 नक्सलियों का सरेंडर

naxal 1

32 नक्सलियों का सरेंडर – छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में रविवार को 32 नक्सलियों ने सामूहिक तौर पर आत्मसमर्पण किया, उनमें से चार के सिर पर कुल चार लाख रुपये का ईनाम था। पुलिस ने इसकी जानकारी दी । दंतेवाड़ा के पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने बताया कि 10 महिलाओं समेत अन्य नक्सलियों ने बरसूर पुलिस थाने में यह कहते हुए आत्मसमर्पण किया कि वे जिला पुलिस के पुनर्वास अभियान से प्रभावित हैं और ‘खोखले’ माओवादी विचाराधारा से निराश हो चुके हैं।

32 नक्सलियों में से 19 बकेली गांव के रहने वाले

naxals

उन्होंने बताया कि 32 नक्सलियों में से 19 बकेली गांव के रहनेवाले हैं और चार कोरकोट्टी और उदेनार, टुमारीगुंडा और मतासी गांव के तीन-तीन व्यक्ति हैं। पुलिस ने सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए उनकी पहचान जाहिर नहीं की है।

32 नक्सलियों का सरेंडर, बारसूर में 150 नक्सली तक चुके हैं आत्मसमर्पण

पुलिस अधीक्षक के मुताबिक अभी तक बारसूर में 150 नक्सली आत्मसमर्पण कर चुके हैं। उन्हें मुख्यधारा से जोड़ने के प्रयास किये जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: कोरोना को लेकर नक्सली इलाके में पुलिस परिवार कर रहे हैं जागरुक…

इन समूहों से जुड़े हैं नक्सली, 32 नक्सलियों का सरेंडर

ये नक्सली दंडकारण्य आदिवासी किसान मजदूर संगठन, क्रांतिकारी महिला आदिवासी संगठन, चेतना नाट्य मंडली (माओवादियों की सांस्कृतिक शाखा) और जनताना सरकार समूह से हैं। उन्होंने बताया कि इन सभी पर पुलिस टीमों पर हमला करने, चुनाव का आयोजन करने से जुड़े अधिकारियों पर हमला करने और बारूदी सुरंग विस्फोट का आरोप है। उन्होंने कि इनमें से चार के सिर पर एक-एक लाख रुपये का ईनाम है।

यह भी पढ़ें:नक्सली क्षेत्र में तैनात पुलिस अधिकारी होली पर क्या कहते हैं