करवाचौथ पर खाएं ये पकवान

करवा चौथ के दिन श्रृंगार से लेकर पकवान तक कोई कसर बाकी न रहे इसके लिये पहले से ही तैयारी मुकम्मल हो जानी ज़रूरी है। व्रत खोलने से पहले महिलाओं को कई तरह के पकवान बनाने होते हैं जिसमें वे काफी थक भी जाती हैं। ऐसे में दिन भर की थकान मिटाने के लिये करवा चौथ का व्रत तोड़ते वक्‍त अपनी और पतिदेव की थाली में हेल्‍दी व्‍यंजनों को रखिए। 

——————————–

करवा चौथ का सुहागिनों को बेसब्री से इंतज़ार रहता है। भूखी प्यासी रहकर वो अपने पति की लंबी उम्र के लिए उपवास करती हैं। साथ ही तैयार करती हैं खास पारंपरिक व्यंजन जिन्हें इस दिन ज़रूर बनाया जाता है। आज हम आपको ऐसे ही कुछ खास व्यंजनों की रेसिपी बताने जा रहे हैं जिनसे आप अपने इस दिन को और भी खास बना सकती हैं।

1. चावल के फर्रे

सामग्री (4 लोगों के लिए)

. 2 कप चावल का आटा

. साढ़े 3 कप पानी

. 2 चम्मच तेल

. आधा चम्मच नमक

भरने के लिए

. 1 कप उड़द की दाल (करीब 6 घंटे भीगी हुई)

. 3-4 हरी मिर्च

. अदरक

. 1 चम्मच गरम मसाला

. 1 धनिया पाउडर

. एक चुटकी हींग (इच्छा अनुसार)

. बारीक कटा हरा धनिया

. नमक स्वादानुसार

. तेल दो बड़े चम्मच

विधि

सबसे पहले दाल का पानी निकाल कर उसे अदरक, हरी मिर्च के साथ दरदरा पीस ले। फिर इसमें नमक, धनिया पाउडर, गरम मसाला, हींग और हरा धनिया अच्छे ले मिला लें…फर्रे में भरने के लिए मसाला तैयार है। अब साढे तीन कप पानी को उबालें और जब पानी उबलने लगे तो इसमें नमक मिला दें। फिर इसमें चावल का आटा धीरे धीरे मिला दें। साथ ही इसे लगातार हिलातें रहें ताकि इसमें कोई गांठ का पड़ जाए। इसके बाद इसे ठंडा होने के लिए के लिए छोड़ दें. ठंडा होने के बाद हाथों में तेल लगाकर नरम आटा गूंथ लें और इसकी 20-25 लोई बना लें। अब इनकी छोटी-छोटी पूड़ियां बेल लें। अब इन पूड़ियों में भरावन सामग्री गुजिया के आकार में भर दें। अब एक स्टीम करने वाले बर्तन में तेल लगाएं और फर्रों को स्टीम में पका लें । अगर आपके पास स्टीम वाला बर्तन नहीं हैं तो आप एक बड़ें पतीलें पानी को अच्छे से उबाल लें और फिर उसमें फर्रे डाल दें। जब फर्रे ऊपर तैरने लगें तो उन्हें पानी से निकाल लें। दोनों ही तरीकों में फर्रे बनने में करीब 12 से 15 मिनट का समय लगता है। फर्रे सही से पके हैं के नहीं जानने के लिए एक चाकू इसमें डालिए और बाहर निकालने पर अगर उसमें सामग्री नहीं चिपके तो आपके फर्रे बनकर तैयार हैं। वैसे तो आप इसे ऐसे भी सर्व कर सकते हैं लेकिन अगर आप इन्हें फ्राई कर लें तो इसका स्वाद कई गुना बढ़ जाता हैं। फ्राई करने के लिए पहले फर्रों के छोटे छोटे टुकड़े कर लें। एक पैन में तेल गर्म करें और उसमें जीरा डालें । इसके बाद इसमें फर्रे डालें और हल्का भूरा होने तक भूनें। और धनिए की चटनी के साथ गरमा गर्म परोसें।

बादामी फिरनी

सामग्री

. चावल आधा कप

. दूध 1 लीटर

. बादाम 20-25

. पिस्ता 10-12 बारीक कटा हुआ

. काजू 10-12 बारीक कटे हुए

. चीनी आधा कप

. पिसी छोटी इलाइची

विधि

चावल को अच्छी तरह से धो कर उसे एक से दो घंटे के लिए भिगो लें। भीगने के बाद अतिरिक्त पानी निकाल दें और हल्का मोटा दरदरा पीस लें। बादाम को भी एक घंटे भिगों और छिलका उतार के उसे भी पीस लें। इसके बाद एक भारी तले के बर्तन में दूध को उबालें। फिर इसमें पिसे हुए चावल डालें और उबाल आने तक हिलाते हुए पकाएं । इसके बाद धीमी आंच पर फिरनी को गाढ़ा होने दें बीच बीच में इसे हिलाते रहें ताकि चावल नीचे ना लगे। इसके बाद इसमें चीनी, काजू, बादाम का पेस्ट, पिस्ता और इलाइची मिला दें। इनकों अच्छे से पकाएं और गैस से उतार लें । इसके बाद इसे कांच के बर्तन में फिरनी को निकाल लें। इसके बाद इसे दो से तीन घंटे फ्रीज में रखें । ठंडी ठंडी बादामी फिरनी को परोसने से पहले बादाम और पिस्ते से गार्निश करें।

मोहन भोग

सामग्री _ एक कटोरी मोटा बेसन, आधा कटोरी घी, 4 बड़े चम्मच दूध, पिसी इलायची, सजाने के लिए कसा हुआ नारियल, शक्कर आवश्यकतानुसार, कतरी पिस्ता व बादाम एवं चांदी का वर्क।

विधि

बेसन में पिघला गर्म घी मिलाकर, दूध से बेसन मसलें। भुरभुरा-सा हो जाएगा। इस बेसन को मोटी छलनी से छान लें। कड़ाही में घी डालकर बादामी होने तक सेंकें। जब सौंधी-सौंधी खुशबू आने लगे तब आंच पर से उतार लें। शक्कर डूब जाए इतना पानी डालकर चाशनी तैयार करें। 2 तार की चाशनी बन जाने पर इसमें सिका हुआ मिश्रण मिलाकर अच्छी तरह घोटें।

चिकनाई लगी किनारेदार थाली में जमने के लिए डाल दें। ऊपर से पिसी इलायची, कटे हुए मेवे, नारियल, बुरक दें। बिलकुल ठंडी होने पर तेज चाकू से मनचाहे आकार में बर्फी काट लें। इस स्वादिष्ट मोहन भोग से पर्व का आनंद उठाएं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here