आपने ली डिटॉक्स डाइट- Do they really work-detox diets-cleanse your body

A detox diet is an opportunity to feed your body the nutrients it needs while temporarily cutting out the potentially harmful ingredients like sugar, simple carbs, sweetened drinks, and processed foods. 

——————————

त्यौहारों के मौसम में बिना रोक-टोक जमकर मिठाइयां, चाट-पापड़ी, पकौड़े, काजू-खोया से बनी वेजिटेरियन व नाॅन वेजिटेरियन डिशेज खाई हैं?  ऐसे में बाॅडी में कई तरह के हानिकारक पदार्थ जमा हो गए हैं। ये टाॅक्सिन्स किडनी, लिवर के अलावा कई अंगों को नुकसान पहुंचाते हैं। ऐसे में जरूरी है कि बाॅडी को नेचुरली डिटाॅक्स किया जाए, ताकि बाॅडी सही तरीके से काम करें और अंदरूनी सफाई हो जाए। इसके लिये डिटॉक्स डाइट से बेहतर और क्या हो सकता है?

डिटाॅक्स डाइट फाइबर युक्त होती है, जिससे बाॅडी के टाॅक्सिन निकल जाते हैं। त्योहारों के बाद कम के कम एक दिन के लिए डिटाॅक्स डाइट पर जरूर जाएं। डिटाॅक्स डाइट मेें एल्कोहल और कैफीन का सेवन बंद कर दें। साथ ही ग्लूटन युक्त अनाज, मैदा, पास्ता, फुल क्रीम दूध, दही, पनीर, मिठाई, चॉकलेट, जैम, प्रोसेस्ड चीजें, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ, फ्रॉजन फूड, चिप्स, रिफाइंड प्रोडक्ट्स, सफेद चावल, सफेद ब्रेड, बिस्कुट, केक व पेस्ट्री, अधिक नमक, कमर्शियल सॉस, कृत्रिम रंग, फ्लेवर आदि चीजें लेने से बचें। अब सवाल यह है कि यह सब नहीं खाएंगे तो खाएं क्या? तो हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे भोजन जो बॉडी को डिटॉक्स करने के साथ आपकी एनर्जी और स्टेमिना को बरकरार रखेंगे।

मूंग खिचड़ी

 

पकाने के लिये सामग्री 

बारीक कटा प्याज – आधा कप, आॅलिव या नारियल तेल – डेढ़ चम्मच, अदरक – 1 चम्मच कसा हुआ, लहसुन पेस्ट – 1 चम्मच, सरसों दाना – 1 चम्मच, हल्दी – 1 चम्मच, जीरा – आधा चम्मच, धनिया पाउडर – आधा चम्मच, सूखी लाल मिर्च – 1, रातभर पानी में भीगी हुई साबुत मूंग दाल – आधा कप, ब्राउन राइस – आधा कप, पानी – ढाई कप, मिली जुली सब्जियां, जैसे गाजर, फूलगोभी, ब्रोकली, शिमला मिर्च, बीन्स आदि – 2 कप, नमक – स्वादानुसार, धनिया पत्ती – 2 चम्मच, नींबू – 1, टमाटर – 1 कटा हुआ।

विधि 

सबसे पहले फ्राइंग पैन में तेल गर्म करें। फिर इसमें प्याज, अदरक और लहसुन भूनें। जब खुशबू आने लगे तब इसमें खड़े मसाले और नमक डालें। अब इसमें मूंग दाल, ब्राउन राइस, पानी और कटी सब्जियां डालें। इसे तीस मिनट के लिए धीमी आंच पर पकाएं। तैयार मूंग खिचड़ी को बाउल में निकालें और इसमें कटे टमाटर, धनिया पत्ती व नींबू निचोड़कर परोसें। नोट – कुछ दिन मूंग खिचड़ी खाने से पाचन तंत्र में सुधार होता है, जो चाट-पकोड़ी खाने से बिगड़ गया है। इसे पकाने में कुल 50 मिनट लगते हैं।

क्लींजिंग सूप से स्वस्थ रखें सेहत

सामग्री

बीन्स, प्याज, बंदगोभी और हरी व पीली शिमला मिर्च – सभी 1 कप, जड़ वाली सब्जियां, जैसे-गाजर, चुकंदर व शकरकंद – आधा कप, पालक – 1 कप, उबला चना या राजमा – आधा कप, अदरक-लहसुन पेस्ट – 1 चम्मच, जीरा पाउडर – आधा चम्मच, हल्दी -आधा चम्मच, नीबू रस – आधा चम्मच, काली मिर्च व नमक – स्वादानुसार, पानी या वेजिटेबल स्टाॅक – 3 कप।

विधि

सभी जड़ वाली सब्जियों को एक सीटी आने तक प्रेशर कुकर में कुक करें। इसमें पालक छोड़कर सभी सब्जियों को उबालें। इसमें बताए गए हर्ब्स और वेजिटेबल स्टाॅक या पानी डालें। इस सूप को 15 से 20 मिनट तक धीमी आंच पर पकाएं। तैयार क्लीजिंग सूप में बारीक कटी पालक और नींबू का रस डालें।  फाइबर होने से यह सूप पेट को भरा-भरा रखता है और डायजेस्टिव सिस्टम को डिटाॅक्स करता है। इसे खाली पेट पीने से इसमें मौजूद विटामिंस, मिनरल्स और पाॅलीन्यूट्रीएंट शरीर की एनर्जी बढ़ाते हैं। इसे कुछ दिन नियमित रूप से पीने से इम्युनिटी बढ़ती है।

डिटाॅक्स सलाद

सामग्री – कसी हुई गाजर – 1, बारीक कटी हुई बंदगोभी – 1 कप, लाल व पीली शिमला मिर्च – 1 कप, मोटा कटा हुआ खीरा – 1 कप, ब्लांच्ड ब्रोकली – 1 कप, लो फैट पनीर – 1 कप, धनिया पत्ती – 1 चम्मच, सफेद तिल – 1 चम्मच, तरबूज के बीज – 1 चम्मच, नमक व काली मिर्च स्वादानुसार, नींबू का रस – 1 चम्मच।

विधि – एक बड़े बाउल में सभी सलाद की सामग्री डालें। बड़े चम्मच से मिलाएं और नींबू निचोड़ें। तैयार डिटॉक्स सलाद को दोपहर या रात के खाने में खाएं।

इसमें मौजूद हैं एंटी आॅक्सीडेंटस, फाइबर और विटामिन-सी। बीज में मिनरल और गुड फैट होता है।

फ्रूटी-नटी ओटमील

सामग्री

ओट – 30 ग्राम, दही या लो फैट दूध – 180 मिली, कटा सेब या केला – 1, बारीक कटे बादाम – 5-7, चीया सीड – 1 चम्मच, अलसी के बीज – 1 चम्मच, सफेद तिल – 1 चम्मच, तरबूज के बीज – 1 चम्मच, दालचीनी पाउडर – 1 चौथाई चम्मच।

विधि

यदि आप दूध का प्रयोग कर रहे हैं, तो ओटस को दूध को धीमी आंच पर आधे घंटेे के लिए उबालें। अन्यथा आधे घंटे के लिए ओटस को दही में भिगोएं। इसके बाद सभी साम्रगी को दूध या दही मिले ओटस में डालें। अच्छे से मिलाएं। तैयार है नाश्ते के लिए डिटाॅक्स फ्रूटी-नटी ओटमील।

ओटस में प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है, जो डायजेस्टिव व इम्यून सिस्टम को दुरुस्त करता हैै। साथ ही इसमें मौजूद प्रोटीन व कार्बोहाइड्रेट एनर्जी देते हैं। फेस्टिव सीजन से गड़बड़ाए रूटीन में वापस लौटने का स्टामिना मिलता है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here