Zomato का नया विवाद , बीफ और पोर्क डिलिवर नहीं कर रहे कर्मचारी

zomato
zomato

Zomato का नया विवाद: फूड डिलिवर करने वाली कंपनी जमैटो फिर से विवादों में है। न्यूज एजेंसी ANI के अनुसार कोलकाता में जोमैटो के डिलिवरी एग्जीक्यूटिव एक हफ्ते से हड़ताल पर हैं. हावड़ा में जोमैटो (Zomato) के फूड डिलिवरी करने वाले सदस्यों ने बीफ और पोर्क की डिलिवरी के विरोध में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं. उनका कहना है कि कंपनी हमारी मांगों के बारे में नहीं सुन रही है और हमें बीफ और पोर्क की डिलिवरी के लिए मजबूर कर रही है. हम अब एक हफ्ते से हड़ताल पर हैं.

पश्चिम बंगाल के मंत्री राजिब बनर्जी (Rajib Banerjee) ने कहा कि कंपनी को किसी भी व्यक्ति को अपने धर्म के खिलाफ जाने के लिए मजबूर नहीं करना चाहिए. यह गलत है. अब जब मुझे इस संबंध में जानकारी मिली है, तो मैं इस मामले को देखूंगा. 

Zomato का नया विवाद, कर्मचारी हड़ताल पर

इससे पहले जोमैटो (Zomato) के एक कस्टमर ने खाना इसलिए कैंसिल कर दिया था, क्योंकि डिलिवरी बॉय मुस्लिम था. उसने किसी हिंदू डिलिवरी बॉय को भेजने को कहा और बाद में उसने ऑर्डर कैंसिल कर दिया. जिसके बाद जोमैटो ने ऐसा रिप्लाई दिया था, जिसको सोशल मीडिया पर लोगों ने खूब पसंद किया था. दरअसल, जबलपुर के एक कस्टमर ने जोमैटो (Zomato) पर ऑर्डर किए गए खाने को सिर्फ इसलिए कैंसिल कर दिया था। तर्क दिया था कि सावन में किसी गैर हिन्दू के हाथ से वह खाना नहीं लेगा.  जबलपुर के अमित शुक्ला ने ट्वीट करते हुए लिखा था- ‘मैंने जोमैटो का ऑर्डर कैंसिल कर दिया है. उन्होंने मेरा खाना मुस्लिम राइडर को दिया साथ ही कहा कि वो राइडर चेंज नहीं कर सकते और पैसा रिफंड भी नहीं करेंगे.’

इसके बाद जिसके बाद जोमैटो के फाउंडर दीपिंदर गोयल ने ट्वीट करते हुए लिखा था- ‘हमें भारत के विचार पर गर्व है और हमारे सम्मानित ग्राहकों और भागीदारों की विविधता. हमें अपने मूल्यों के रास्ते में आने वाले किसी भी व्यवसाय को खोने का अफसोस नहीं है.’ इस ट्वीट के बाद लोग ट्विटर यूजर्स जोमेटो की खूब तारीफ कर रहे हैं. इसे लेकर पुलिस ने खाना ऑर्डर करने वाले जबलपुर निवासी को उसके ट्वीट पर चेतावनी भी दी थी.