अतिथियों ने उठाई सौगंध, भाजपा विधायकों को नहीं घुसने देंगे गांवों में

guest teacher in karnal
guest teacher in karnal
  • हरियाणा सरकार से नाराजगी, वादा खिलाफी का लगाया आरोप

अतिथियों ने उठाई सौगंध कि वह भाजपा विधायकों को अपने-अपने गांवों में नहीं घुसने देंगे। हरियाणा के अतिथि अध्यापक पिछले कई महीने से समान काम समान वेतन की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार ने उनकी बात मान भी ली थी, लेकिन आज तक उसका पत्र जारी नहीं किया है, जिससे अतिथि अध्यापक सरकार से काफी नाराज हैं। मंगलवार को प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने उन पर वाटर कैनन का इस्तेमाल किया, जिससे काफी महिला अध्यापकों को भी चोटें आई हैं। पुलिस के बल प्रयोग से अतिथि अध्यापक और नाराज हो गये हैं। उनकी सरकार के प्रति नाराजगी बढती ही जा रही है।

अतिथियों ने उठाई सौगंध-लाठीचार्ज का विरोध

करनाल जीटी रोड की और बढ़ने का प्रयास कर रहे प्रदेश के हजारों प्रदर्शनकारी गेस्ट टीचर्स पर पुलिस प्रशासन ने आज वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। घंटों तक पुलिस और अध्यापकों के बीच चली तनातनी के दौरान जब अध्यापकों ने बेरिकेड्स तोड़ डाले तो पुलिस ने उनके ऊपर पानी की बौछारे फेंककर बार-बार उन्हें दूर खदेड़ा, लेकिन प्रदर्शनकारी बेरिकेड्स तोड़ने की कोशिश में लगे रहे। इस दौरान पानी के तेज प्रेशर के कारण बेरिकेड भी प्रदर्शनकारियों के ऊपर जा गिरे। इससे पहले गेस्ट टीचर्स ने सीएम की शवयात्रा निकाली।

अतिथियों ने उठाई सौगंध-जब तक हक नहीं मिलता करनाल में डटे रहेंगे

guest-teacher
guest-teacher file

उन्होंने ऐलान किया कि जब तक सरकार अपने वादे के अनुसार उन्हें स्थाई रोजगार नहीं देती और समान काम, समान वेतन का पत्र नहीं दिया जाता, तब तक वह करनाल नहीं छोड़ेंगे। पानी की बौछारें थमते ही अध्यापकों ने बीच सड़क पर शपथ ली कि वह प्रदेशभर के गांवों में अब भाजपा विधायकों को नहीं घुसने देंगे।

समान काम का समान मिले वेतन

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि बीते फरवरी माह में सरकार ने उन्हें समान काम, समान वेतन देने का ऐलान किया था, लेकिन उन्हें वह पत्र ही नहीं दिया जा रहा। उन्होंने कहा कि पत्र लिये बिना हम भी घर नहीं जाएंगे। इधर राजनीतिक दलों ने भी प्रदर्शनकारी अध्यापकों को समर्थन देने का सिलसिला तेज कर दिया है। करनाल में चल रहे धरने पर कल कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी सैलजा और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा अतिथि अध्यापकों से मिलने पहुंचे। आज पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला और राजकुमार सैनी ने उन्हें समर्थन दिया।

करनाल के लोगों से मांगी माफी

guest teacher protest file
guest teacher protest file

इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने करनाल शहर के लोगों से माफी मांगी। उन्होंने कहा कि रोज-रोज उनकी वजह से लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है। अतिथि अध्यापक संघर्ष समिति की अध्यक्ष एवं शहीद की पत्नी मैना यादव ने इस दौरान कहा कि करनाल प्रशासन और मुख्यमंत्री ने उनके साथ बार-बार धोखा किया है। तीन दिन पहले उन्होंने जब 36 घंटे तक दिन-रात सड़क पर धरना दिया तो डीसी ने वादा किया कि अगले दिन सीएम से चंडीगढ़ में बैठक का समय तय हो गया है। इसी दौरान जब सीएम करनाल आये तो उनकी बातों को गंभीरता से नहीं लिया।