हाउज़ द जोश… हाई सर, सेना भर्ती में ऐसे दिखा लड़कियों का जज़्बा

0
18
army recruitment in ambala
army recruitment in ambala

हाउज़ द जोश … सुनते ही मुंह से अपने आप निकलता है हाई सर। ऐसा ही कुछ आजकल सुनने को मिल रहा है हरियाणा के अंबाला में चल रही सेना पुलिस की भर्ती में। देश में पहली बार महिलाओं को सेना पुलिस में भर्ती किया जायेगा। इसके लिए सात सितंबर से अम्बाला में 7 राज्यों की युवतियां अपना भाग्य आजमा रही है। जैसे ही उनसे पूछा जाता है हाउज़ द जोश.. तो सभी एक साथ कहती हैं हाई सर। ये जज्बा लेकर युवतियां मैदान में उतरी है। तन पर सेना की वर्दी पहनकर देश सेवा करना चाहती हैं।

देश में हो रही पहली महिला सेना पुलिस जनरल भर्ती में उत्तर भारत की बेटियों का रूझान देखते ही बन रहा है। पूरे देश भर में 100 पदों के लिए करीब ढाई लाख बेटियों ने ऑनलाइन आवेदन किया हुआ है। 7 सितंबर से देश के कई भर्ती सेंटरों पर प्रक्रिया शुरू हो गई है। अम्बाला भर्ती कार्यालय में 7 राज्यों की युवतियां अपना भाग्य आजमाएंगी।

हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, जम्मू और कश्मीर, लेह लद्दाख और चंडीगढ़ से करीब पांच हजार बेटियों ने सेना में पुलिस की कमान संभालने की इच्छा जाहिर की है।http://www.indiamoods.com/pakistani-spy-caught-in-ambala-cant-used-to-work-for-isi/

अम्बाला में चल रही पांच दिन की इस भर्ती को लेकर व्यवस्थायें पूरी हैं और सेना प्रशासन की ओर से बेटियों के लिये पूरा इंतजाम किया गया है। पहले दिन प्रदेश के चार जिलों की 1100 बेटियों ने रजिस्ट्रेशन कराया था जिसमें 400 ने भर्ती प्रक्रिया में भाग लिया। जिन जिलों की बेटियों ने हिस्सा लिया उनमें रेवाड़ी, महेंद्रगढ़, भिवानी व चरखी दादरी थी।

जबकि आज हिसार, रोहतक, पानीपत, सिरसा और जींद की बेटियां सेना पुलिस में भर्ती होने को लेकर खासी उत्साहित देखी गई।

हाउज़ द जोश.. एक दिन में 500 युवतियों ने दिया टेस्ट

भर्ती कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार करीब 500 बेटियों ने रविवार को भर्ती प्रक्रिया में हिस्सा लेकर अपना दम दिखाया। इतना ही नहीं बेटियों के परिजन भी इस भर्ती को लेकर खासे उत्साहित नजर आ रहे हैं। अपनी बेटी को भर्ती के लेकर आये पानीपत के सतविंद्र सिंह का कहना था कि उनकी छोरी तो बचपन से सेना में भर्ती होने की बात करती थी। आज वो दिन आ गया। बाकी आने वाला समय बतायेगा।

सेना पुलिस की भर्ती में हरियाणा की छोरियां के आगे 7 मिनट में 1.6 किलोमीटर की दौड. भारी पडी। आधे से ज्यादा युवतियां बेहोश हो गई। इन्हें पहले ही चरण में बाहर का रास्ता देखना पडा। स्टेडियम में करीब आधा किलोमीटर पहले ही बेरिकेड्स लगाकर परिजनों को रोक दिया गया था। रेस पार चुकी युवतियों को अगले चरण यानि लंबी और ऊंची कूद में दमखम दिखाना होगा।

हाउज़ द जोश..

सेना पुलिस में भर्ती होने आयी ज्यादातर युवतियां उरी मूवी के हाउज द जोश डायलॉग से प्रेरित हैं। रोहतक के बसाना गांव से आई प्रीति ने कहा कि यदि वह सेना में भर्ती होने पर सफल रही तो उसे खुशी होगी। भर्ती रैली का हिस्सा बनना ही गर्व की बात है। इसके लिये उसने काफी अभ्यास किया है।
फतेहाबाद के बिजलपुर की ज्योति ने कहा कि उसके नाना सेना में थे और वह भी सेना में भर्ती होना चाहती थी। हाउज द जोश मूवी ने उसके मन में भर्ती होने के लिये और प्रेरणा जागृत की थी। इसी तरह झज्जर की नीतू ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद बनी उरी फिल्म ने उसे सेना में भर्ती होने के लिये प्रेरित किया था।