पैरों की नीली नसों को नज़रअंदाज़ न करें, वेरीकोस वेंस तो नहीं…

0
21
VaricoseVeins
VaricoseVeins

पैरों की नीली नसों को नज़रअंदाज़ कर दें। वेरिकोस वेंस एक आम समस्या है जिसमें आपके शरीर के किसी भी हिस्से की नसें खासतौर पर पैरों की नसें अप्राकृतिक रुप से फैल जाती हैं और त्वचा पर उभरी हुई दिखने लगती हैं। ये आमतौर पर पैरों और जांघ पर होती हैं। ऐसे में ये नसें कमजोर हो जाती हैं और इनकी कार्यक्षमता कम होने लगती है। इस प्रकार नसों के प्रसार से आपको दर्द, थकान, बेचैनी, जलन और पैरों में भारीपन की परेशानी हो सकती हैं।

वेरिकोस वेंस का मुख्य कारण मोटापा, बहुत देर तक खड़े रहना, कब्ज और हार्मोन्स परिवर्तन आदि हो सकता है। वेरिकोस वेंस का ईलाज काफी महंगा हो सकता है।

एप्पल साइडर वेनेगर

vinegars-1
vinegars-1

सेब का सिरका वेरिकोस वेंस के लिए सबसे उपयोगी औषधि है। यह प्राकृतिक रुप से शरीर को साफ करने के लिए उपयोगी होता है। यह रक्त संचार और नसों में रक्त प्रवाह को बढ़ाता है, जिससे जब प्राकृतिक रुप से नसों में रक्त का बहना शुरु होता है तो इससे नसों का भारीपन, सूजन और वेरिकोंस वेंस की परेशानी कम होती है।

पैरों की नीली नसों के लिये घरेलू औषधि

  • एप्पल साइडर वेनेगर को एक गिलास पानी में 2 चम्मच मिलाकर दिन में 2 बार पिएं।
  • एप्पल साइडर वेनेगर को त्वचा के प्रभावित हिस्से पर सीधे लगाएं और हल्के हाथों से मसाज करें। इसे आप रोजाना कर सकते हैं।

ऑलिव ऑयल: वेरिकोंस वेन को ठीक करने के लिए ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने की आवश्यकता होता है। इस प्रकार ऑलिव ऑयल की मसाज करने से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ जाता है और सूजन और दर्द कम होता है।

kisspng-olive-oil-vegetable
kisspng-olive-oil-vegetable
  • ऑलिव ऑयल में विटामिन E का कैप्सूल मिलाएं और इसे गर्म करके पैरों पर मसाज करें।
  • इस प्रक्रिया को दिन में दो बार दोहराएं

पैरों की नीली नसों की समस्या से पीड़ित कौन

Varicose veins
varicose veins.

वेरीकोस वेंस के सबसे ज्यादा शिकार दुकानदार व महिलायें होती हैं। कम्प्यूटर के सामने व आफिस में घंटों बैठने वाले लोग, पांच सितारा होटलों में काम कर रहे लोग, लंबे समय तक लगातार खड़े रहने वाले वेरीकोस वेन्स के प्रकोप से बच नहीं पाते हैं। ट्रैफिक पुलिस मैन, प्रयोगशालाओं में कार्यरत वैज्ञानिक, न्यायपालिका के सदस्य व वकील भी वेरीकोस वेन्स से अछूते नही हैं। शिक्षक समुदाय में भी यह समस्या तेज़ी से फैल रही है।